बांदाबुंदेलखंड

बांदा-भूजल स्तर बढ़ाने के बताए गए तौर-तरीके

बांदा-भूजल स्तर बढ़ाने के बताए गए तौर-तरीके

भूजल स्तर बढ़ाने के बताए गए तौर-तरीके
– विकास खंड बड़ोखर में आयोजित किया गया तीन दिवसीय वाश प्रशिक्षण
बांदा। जनपद में जिला प्रशासन व यूनीसेफ के सहयोग से सुपोषण अभियान को गति देने हेतु स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अन्तर्गत जिलाधिकारी हीरा लाल की अध्यक्षता में विकास खण्ड बडोखर में वाश विषयक तीन दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया गया। जिसमें प्रत्येक अधिकारी समेत कुल 80 लोगोें द्वारा प्रतिभाग किया गया। जिन्हें ग्रामीण क्षेत्रों में वाटर रिचार्ज एवं भूजल स्तर बढाने हेतु सोकपिट का निर्माण तथा स्वच्छ पेयजल हेतु पानी की गुणवत्ता के सुधार व परीक्षण के तरीके बताये गये। यूनीसेफ के प्रशिक्षक नवीन शुक्ला द्वारा प्रोजेक्टर के माध्यम से सैद्धान्तिक प्रशिक्षण प्रदान करते हुए सोख्ता गड्ढे व रिचार्ज पिट निर्माण के तरीके बताये गये जिन्हें 07 सितम्बर को ग्राम जमुनीपुर विकास खण्ड बडोखर खुर्द में व्यवहारिक प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा।
जिलाधिकारी ने पानी के संकट के निवारण के लिए विगत एक वर्ष से गड्ढे, खन्ती खोदने, कुआं तालाब जियाओ अभियान चलाने की जानकारी देते हुए उसको सफलतम परिणामों को गति प्रदान करने हेतु छतों के पानी को सोकपिट व रूफ हार्वेस्टिंग सिस्टम के माध्यम से भूजल स्तर बढ़ाये जाने की आवश्यकता पर बल दिया गया। उन्होंने जनपद द्वारा पानी बचाओ के माडल की चर्चा करते हुए बताया कि अब जिला प्रशासन के साथ विभिन्न संस्थाएं यथा-वाटर एड, अखिल भारतीय समाज सेवा संस्थान व यूनीसेफ के अधिकारियों के सहयोग से कुपोषण को दूर करने का काम किया जा रहा है, ताकि हर परिवार व बच्चे स्वच्छ पेयजल तथा पर्याप्त पानी की उपलब्धता, स्वच्छता व सुपोषण जैसे आठ महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर युनीसेफ के साथ समझौता किया गया है और उसी क्रम में यह प्रशिक्षण आयोजित किया जा रहा है। इसमें जो भी मास्टर टेªनर प्रशिक्षित होंगे। वह समस्त विकास खण्डों में जाकर प्रशिक्षण प्रदान करेंगे, जिससे हर ग्राम पंचायत में वर्षा जल संचयन व स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित हो सके। जिला पंचायत राज अधिकारी संजय कुमार यादव द्वारा कार्यक्रम की उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए बताया कि यह अभियान प्रत्येक विकास खण्ड स्तर पर चलाया जायेगा तथा प्रत्येक विकास खण्ड से दो-दो ग्राम माडल के रूप मे चयनित करके वर्षा जल संचयन व स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जायेगी। साथ ही जिन हैण्डपंपों में प्लेटफार्म खराब है, उनके ब्रिक सर्किल द्वारा मरम्मत कराते हुए सोकपिट का निर्माण किया जायेगा ताकि गांव की किसी भी गली व मार्ग में जलभराव न हो सके। इस मौके पर समस्त सहायक विकास अधिकारी, अपर जिला पंचायत राज अधिकारी सुरेश कुमार धुरिया व जिला समन्वयक मनोज द्विवेदी उपस्थित थे।

Leave a Reply

WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
यूपी ताजा न्यूज़