बुंदेलखंडराठहमीरपुर

राठ-आज यदि वृक्ष ना होते तो हमारा जीवन समाप्त हो जाता

राठ-आज यदि वृक्ष ना होते तो हमारा जीवन समाप्त हो जाता

आज यदि वृक्ष ना होते तो हमारा जीवन समाप्त हो जाता
राठ।    स्थानीय जलविहार मंच पर चल रही रामकथा के आज अंतिम दिन चित्रकूट से आए महामंडलेश्वर रामस्वरूप जी ने भगवान राम की कथा का वर्णन किया।

महामंडलेश्वर रामस्वरूप जी राम कथा में बताया कि भगवान राम एक आदर्श थे तथा उन्होंने सदैव सभी का सम्मान किया। यदि किसी का सम्मान करेंगे तो आपका भी सम्मान होगा। आज अंतिम दिन भक्तों की भारी भीड़ नजर आई रामस्वरूप जी ने कथा श्रवण कराते हुए बताया कि भगवान राम ने साधुओं का सम्मान किया था और जैसे ही वहां पर साधु आए थे तो कैसे उन्होंने दंडवत होकर प्रणाम किया था जबकि देवताओं से आने पर उन्होंने नमस्कार किया था। साथ ही उन्होंने कहा कि दूसरों का सम्मान करना चाहिए तो खुद को सम्मान मिलता है। साधु संत और भगवान उससे बढ़कर नदियां और वृक्ष होते हैं यह कभी किसी को कुछ कहते नहीं यदि आप वृक्ष काटेंगे तो वृक्ष कभी यह नहीं कहेगा कि मुझे ना काटो नदी में अगर गंदगी डालेंगे तो नदी कभी नहीं कहती कि मेरे ऊपर गंदगी डालो यदि मनुष्य के ऊपर या किसी किसी साधु के ऊपर यदि गंदगी डाल देंगे तो उसके प्रणाम आपको देखने को तुरंत मिल जाएगा हमें वृक्ष जीवन देते हैं आज यदि वृक्ष ना होते तो हमारा जीवन समाप्त हो जाता। उन्होंने यह भी कहा कि आगामी 13 सितंबर को प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ जी चित्रकूट पधार रहे हैं और साधु-संतों से बात करके मंदिर निर्माण की बात होगी तथा यह मंदिर निर्माण सेदरी होता है और उन्होंने कहा कि आज जो दूसरा पक्ष था मुस्लिम समाज का उसके द्वारा भी अस्वीकार आ गया है कि यहां मंदिर था इसलिए मंदिर का निर्माण भी शीघ्र होगा हमारे निर्मोही अखाड़ा के 11 लोग भी इस मंदिर समिति में हैं मैं स्वयं चित्रकूट से इस समय में शामिल हूं।
कथा के दौरान के जी अग्रवाल, पंडित चंद्र शेखर मिश्रा, प्रमोद बजाज, विनय अग्रवाल, काशी प्रसाद गुप्ता, रमेश चंद्र सर्राफ, सहित तमाम श्रोतगण मौजूद रहे।

Oops, something went wrong.

Leave a Reply

WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
यूपी ताजा न्यूज़