Categories
बांदा बुंदेलखंड

बांदा-बिजली कर्मचारियों का कार्य बहिष्कार आज से

बिजली कर्मचारियों का कार्य बहिष्कार आज से
– 48 घंटे तक नहीं करेंगे काम, पीएफ घोटाले को लेकर नाराजगी
फोटो नंबर-05: नारेबाजी करते बिजली कर्मचारी
बांदा। उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में हुये भारी भविष्य निधि राशि के घोटाले के विरोध में पूरे उत्तर प्रदेश में विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उत्तर प्रदेश के आहवान पर समस्त बिजली अभियन्ता, अधिकारी एवं रेगुलर एवं संविदा कर्मचारी आन्दोलनरत है। विगत पांच नवम्बर से लगातार आन्दोलन जारी है। पूरे प्रदेश के कर्मचारियों ने पिछडली 14 नवम्बर को लखनऊ में आन्दोलन किया था। उसी क्रम में केन्द्रीय आहवान पर जिले के समस्त अभियन्ता, रेगुलर एवं संविदा कर्मचारी 18 नवम्बर से 19 नवम्बर तक 48 घंटे कार्य बहिष्कर करेंगे।
उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारी संघ के जोनल मंत्री आनन्द कुमार पाल ने बताया कि पूरे प्रदेश में समस्त बिजली कार्मिक अपने भविष्य निधि राशि एवं संविदा कार्मिक ईपीएफ हेतु जोरदार आन्दोलन करेंगे। मोहन राजपूत खण्डीय अध्यक्ष ने बताया कि जिले के समस्त अभियन्ताओं एवं कर्मचारियों की उपस्थिति अनिवार्य है। कार्यक्रम पीली कोठी कार्यालय परिसर में आयोजित किया जायेगा। खण्डीय मंत्री अमरेश पाल ने बताया कि यदि उत्तर प्रदेश ने बिजली कर्मचारियों के भविष्य निधि राशि एवं संविदा कर्मचारियों के ईपीएफ तथा समस्त उर्जा निगमों के एकीकरण के साथ ही साथ संविदा कर्मियों को विभाग में तेलांगना सरकार की ही भांति समायोजित करने के लिये ठोस निर्णय ले। यदि कार्यवाही नही करती है तो समस्त बिजली अभियन्ता एवं रेगुलर व संविदा कर्मचारी व्यापक आन्दोलन करेंगे। बैठक में जितेन्द्र कुमार, सुमित कुमार, अरसद, कमाल अहमद, प्रकाश, सुरेश सिंह, अजेश, कल्लू, हरिलाल, विष्णुदत्त, अनिल पाठक, अजय सविता, हिमांशु यादव, अतुल कुमार, पवन कुमार, श्यामबहादुर, राकेश साहू आदि शामिल हुये।

तालाब पट्टे की नीलामी का आदेश व अनुबंध की पत्रावली गायब
– जनसूचना के तहत मांगी गई सूचना में हुआ खुलाशा
बांदा। शहर के खुटला मोहल्ले के रहने वाले विष्णु कुमार ओमर ने बीते अक्टूबर माह में सदर तहसील के तहसीलदार कार्यालय से ग्राम पपरेंदा के हजारी तालाब का वर्ष 2008 में किये गये आवंटन से सम्बंधित सूचना चाही गई थी। जिसमें जनसूचना अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया है कि पत्रावली में नीलामी का आदेश एवं अनुबंध उपलब्ध नही है।
गौरतलब है कि खुटला मोहल्ले के रहने वाले विष्णु कुमार ओमर ने तहसील सदर कार्यालय से तीन बिन्दुओं पर सूचना मांगी थी। जिसमें आवेदक द्वारा गांव पपरेंदा हजारी तालाब गाटा संख्या 581 रकबा 4.034 हे0 की नीलामी दिनांक-05.03.2008 को वार्षिक लगान चार हजार रूपये में रामदीन निषाद सचिव मत्स्य जीवी सहकारी समिति के नाम की गई थी। उक्त नीलामी का आदेश एवं अनुबंध पत्र की छायाप्रति की मांग की गई थी। जिस पर तहसीलदार कार्यालय से अवगत कराया गया कि कार्यालय में उपलब्ध पत्रावलियों के आधार पर उक्त पत्रावली कार्यालय में उपलब्ध नही है। इसके अलावा आवेदक द्वारा 5 मार्च 2008 के पूर्व गांटा संख्या 581 रकबा 4.034 की नीलामी किस किस सन में की गई है। उसका नाम, पता व वार्षिक लगान की छायाप्रति उपलब्ध कराने की मांग की गई थी। इस पर तहसील कार्यालय से बताया गया कि उपलब्ध मत्सय पालन आवंटन रजिस्टर के अनुसार 2008 के पूर्व उक्त गाटा संख्या की नीलामी नही हुई है। आवेदक द्वारा बताया गया कि अधिकारी सूचना देने के नाम पर केवल रस्म अदायगी कर रहे है।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

बांदा-जीवन के प्रत्येक पहलू में करें परमात्मा का स्मरण: देवी प्रसाद

जीवन के प्रत्येक पहलू में करें परमात्मा का स्मरण: देवी प्रसाद
-रेलवे स्टेशन में आयोजित मानस सम्मेलन का दूसरा दिन
बांदा। रेलवे स्टेशन परिसर में चल रहे 42 वर्ष के पंचदिवसीय मानस सम्मेलन के दूसरे दिवस श्रोताओं को सम्बोधित करते हुये वक्ता रूरा से आए देवी प्रसाद महाराज ने कहा कि इस सम्मेलन में आये हुये श्रोता, वक्ता का परम सौभाग्य व पुण्य फल है जीवन के प्रत्येक पहलू में परमात्मा का स्मरण करना है।
उन्होने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास ने लिखा है कि देखि अइ रूप नाम अधीना, रूप ज्ञान नहिं नाम विहीना, नाम ही वह साधन है जो हमे साधन तक पहुंचा सकता है। बुधि विश्राम सकल जन रंजन, रामकथा कति कलुष विभंजन, राम की यह कथा विद्धानों की समाज को विश्राम प्रदान करती है। कथा का श्रवण भगवत प्राप्ति कराता है। जीव के लिसे सुखद कल्याणकारी व मंगलमयी है। कलियुग के कलुष को नाश करने वाली है। दूसरों के दोषों को दूर करने के लिये यह सत्संग है। कहा कि कथा को सुधा की तरह अमृत मानकर पान करना चाहिये। कथा को अमर कहा। नाना प्रकार के क्लेशों के शमन करने वाला ही साधु कहा जाता है। अहार, अचार, विचार, मन, नियम को जो साध लेता है वही साधु होता है।शंकराचार्य सरस्वती ने बेदों के पढने व ज्ञान प्राप्त करने की बात कही। किन्तु गोस्वामी ने जनज न की भाषा में यह ज्ञान देन वाले पांचवो बेद रामचरित मानस के रूप में रच डाला। झींझक कानपुर के रामायणी पंडित आलोक मिश्र ने कथा को लागे बढाते हुये कहा कि कौशल ने राम से पूंछा बताओ तुम साक्षात परंब्रम्ह हो, राम ने कहा हां मैं वास्तव में वैसा ही हूं। जैसा आपने सोंचा, पूंछ और जानना चाहा है। मां कौशिल्या ने राम से कहा कि हे राघव ब्रम्ह से यह कह दो कि जितने दिन बिना राम को देखने मैने बितायें है उन्हे मेरी अयु में न जोडे। दशरथ गुरू वशिष्ठ से कहते है कि मैं आप कुलगुरू से आज्ञा लेने आया हूं। इन्द्रियों को वश में करने वाले को वशी कहते है। वक्ता ने कहा कि अरे कैकेई जब तेरे गोद में राम बैठते है तो तब तुम चन्द्र की भंाति हो जाती। वहीं कैकेई जब सर्विणी बनी तो वही अमृत उसके मुख में विष बन गया। वक्ता ने श्रोताओं को कहा कि मन्थरा के समझाने पर कैकेई ने दशरथ से राम की सौगंध दिलाकर वर मांगे। कहा कि किसी से कभी कुछ मांगियें, भक्ति करते समय ईश्वर से मात्र यही कहिये कि आपने जो दिया वह बहुत दिया है। पावन अवधपुरी अयोध्या से आये रमेशदास नागा महाराज ने कथा का विस्तार करते हुये समापन किया।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

तिंदवारी -बीमारी से पीड़ित ग्राम प्रधान का निधन

बीमारी से पीड़ित ग्राम प्रधान का निधन
तिंदवारी (बांदा)। ग्राम पंचायत बहिंगा के प्रधान का बीमारी के चलते कानपुर के अस्पताल में निधन हो गया। रविवार दोपहर उनके पैतृक गांव बहिंगा में अंतिम संस्कार किया गया। इस मौके पर गांव के लोगों समेत कई ग्राम प्रधान भी मौजूद रहे।
बहिंगा ग्राम प्रधान चन्द्रभवन सिंह पटेल का लंबे समय से कानपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में उपचार चल रहा था। चिकित्सकों के मुताबिक रविवार की सुबह उनकी हालत अचानक बिगड़ गई और उन्होंने दम तोड़ दिया। बताया है कि वह काफी समय से किडनी में इंफेक्शन से पीड़ित थे। प्रधान के निधन की खबर सुनकर गांव के लोगों में शोक की लहर दौड़ गई और गांव वालों का जमावड़ा उनके घर पर लगना शुरू हो गया। जानकारी मिलते ही उनके साथी प्रधानों व चाहने वालों की भीड़ भी जमा हो गई। कानपुर से शव आने के बाद गांव में ही उनका अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार के दौरान प्रधान संघ अध्यक्ष ज्ञान सिंह, पूर्व प्रधान बेंदा विवेक सिंह, सांसद प्रतिनिधि सत्येंद्र प्रताप सिंह, पूर्व चेयरमैन ब्रजेश सिंह पटेल, छापर प्रधान विनय तिवारी, सेमरी प्रधान कमलेश बाजपेयी, लोहारी प्रधान राजाराम श्रीवास आदि मौजूद रहे। वहीं प्रधान संघ अध्यक्ष ज्ञान सिंह की मौजूदगी में हुई शोक सभा में दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गयी। शोक सभा मे कई गांवों के ग्राम प्रधान शामिल हुए।

जमीनी विवाद में मारपीट, तीन पर मुकदमा दर्ज
बांदा। बेंदा गांव के मजरा लोहारी में हुई मारपीट में युवक को तीन लोगों ने मारपीट कर जख्मी कर दिया। पुलिस को दी तहरीर में घायल के भाई अजीत सिंह के अनुसार पिछले रविवार को जमीन को लेकर छोटे भाई अर्जुन सिंह (24) पुत्र रामबिहारी सिंह को गांव के पप्पू पुत्र हरिनारायण सिंह, जीतू पुत्र प्रतापनारायण सिंह व प्रतापनारायण सिंह पुत्र मनिया सिंह ने लाठी डंडों से पीट कर घायल कर दिया। आसपास मौजूद लोगों व परिजनों ने जब हमलावरों को ललकारा तो वह गाली गलौज व जान से मारने की धमकी देते हुए भाग निकले। घायल अर्जुन सिंह को पीएचसी में भर्ती कराया गया, जहां से हालत नाजुक होने पर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। लेकिन हालत में सुधार न होने के कारण उसे कानपुर के लिए रेफर किया गया। पुलिस ने भाई की तहरीर पर हमलावर पप्पू, जीतू व प्रतापनारायण के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज किया है। बेंदा चैकी इंचार्ज अनिरुद्ध प्रताप सिंह के मुताबिक तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 325, 323 व 504 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। उधर थाना क्षेत्र के तेरही माफी गांव निवासी ब्रजेश कुमार बाजपेई पुत्र राम मनोहर बाजपेयी ने पुलिस को दी गई तहरीर में बताया है कि पड़ोसी के जानवर खेत मे घुसकर फसल नष्ट कर रहे थे, मना करने वह अपने दोनों बेटे के साथ आकर गाली गलौज व जान से मारने की धमकी दी है।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

बांदा-सेमीफाइनल जीतने वाली दोनो टीमों के बीच खिताबी भिड़ंत आज

सेमीफाइनल जीतने वाली दोनो टीमों के बीच खिताबी भिड़ंत आज
– अब्दुल हमीद लांचर्स व योगेंद्र सिंह ग्रेनेडियर्स टीमें मैच जीतकर फाइनल में पहुंची
बांदा। परमवीर सुपरलीग सीजन-2 क्रिकेट टूर्नामेंट का फाइनल मैच सोमवार को जीआईसी ग्राउंड में खेला जाएगा। रविवार को वीर अब्दुल हमीद लांचर्स और योगेंद्र सिंह ग्रेनेडियर्स टीमों ने अपने-अपने मैच जीतकर फाइनल में प्रवेश किया। लांचर्स टीम के ललित प्रताप मैन आफ द मैच चुने गए। सोमवार को दोनों टीमों के बीच खिताबी मुकाबला होगा।
जीआईसी ग्राउंड में रविवार को टूर्नामेंट के दो सेमीफाइनल मैच खेल गए। पहले मैच में टास जीतकर बल्लेबाजी करते हुए वीर अब्दुल हमीद लांचर्स ने निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट खोकर 124 रनों का स्कोर खड़ा किया। ललित प्रताप ने 39, आशुतोष मिश्रा व सरन थापा ने 28-28 और अर्पित कबीर ने 19 रनों का योगदान दिया। लक्ष्य का पीछा करने उतरी शैतान सिंह शूटर्स की पूरी टीम निर्धारित 20 ओवरों में 119 रनों पर सिमट गई। लांचर्स टीम के बालर संजय साहू व राहुल सिंह ने दो-दो तथा सरन, उजैर शाह और सर्वेश ने एक-एक खिलाड़ी को आउट किया। आकर्षक बल्लेबाजी करने वाले लांचर्स टीम के बैट्समैन ललित प्रताप मैच के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किए गए। दोपहर बाद टूर्नामेंट का दूसरा सेमी फाइनल मैच योगेंद्र सिंह यादव लांचर्स व ग्रेनेडियर्स और सूबेदार संजय कुमार स्नैपर्स टीमों के बीच खेला गया। टास जीतकर स्नैपर्स टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में मात्र 96 रनों पर पूरी टीम ढेर हो गई। स्नैपर्स टीम के शिवम साहू ने 19, रवि ने 14 और आशुतोष ने 11 रनों का योगदान दिया। ग्रेनेडियर्स टीम के गेंदबाज मनोज रैकवार ने तीन, शिवेंद्र व हिमांशु ने दो-दो विकेट लिए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी ग्रेनेडियर्स टीम ने पीयूष गुप्ता के 39, कमलेश राजपूत के 38 और मनोज रैकवार के 13 रनों की बदौलत मात्र 9.4 ओवर में एक विकेट खोकर लक्ष्य पा लिया। ग्रेनेडियर्स टीम ने 9 विकेट से मैच जीतकर फाइनल में प्रवेश किया। इसके पूर्व मुख्य अतिथि आशा सिंह ने खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर मैच का उद्घाटन किया। इस मौके पर सहायक परिवहन अधिकारी राकेश वर्मा, भाजपा नेता पुष्कर द्विवेदी, श्रुति भारद्वाज, संगीता शिवहरे, संदीप गुप्ता, सुनील सिंह गौतम, दीपांक मेहरा, चंद्रमौलि भारद्वाज, एसबी सिंह, विनय श्रीवास्तव, शिव प्रताप सिंह, सुप्रीत सोम, आसिफ अली, दुर्गेश भदौरिया, विजय राय, संजय साहू, मिथलेश, आयुष, अर्पित कबीर, कमेंटेटर नागेश खरे, शिवा अवस्थी, अबरार फारुकी, एसपी सिंह व दीपक श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

बबेरू-जैविक खाद का इस्तेमाल करें अन्नदाता

जैविक खाद का इस्तेमाल करें अन्नदाता
– जमीन जंगल और जल के साथ पर्यावरण संरक्षण का किया गया आवाहन
बबेरू। कस्बे के एक मैरिज हाल में गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण और जैव विविधता के संवर्धन पर चर्चा की गई और जैविक कार्य प्रशिक्षण में किसानों से जैविक खादों का इस्तेमान करने के लिए कहा गया। जैविक खाद के इस्तेमाल से खेत की मिट्टी ताकतवर होती है और पैदावार अच्छी होती है। इसके साथ ही जंगल, जल और जमीन के साथ पर्यावरण संरक्षण का आवाहन भी किया गया।
कामदगिरि आर्गेनिक फार्मस प्रोड्यूसर कंपनी के तत्वाधान में रविवार को आयोजित गोष्ठी में किसानों ने बढ़चढ़कर भागीदारी की। गोष्ठी को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि डा.वीके सचान ने कहा कि जल, जंगल और जमीन का संरक्षण जरूरी है। अरबों रुपया खर्च होने के बावजूद इनका संरक्षण नहीं हो पा रहा। इस पर ध्यान देना होगा। अगर प्रकृति के नियमों को तोड़ा गया तो तबाही होगी। मानवीय मूल्यों को ध्यान में रखकर विकास की योजनाएं बनाई जानी चाहिए। उन्होंने किसानों से जल, जंगल, जमीन के साथ पर्यावरण संरक्षण को सहेजने की सलाह दी। कहा कि अगर अभी नहीं चेते तो आने वाले समय में इसके परिणाम भयानक होंगे। गोष्ठी का संचालन कर रहे डा.मीनाक्ष कुमार ने कहा कि पुरानी खेती पद्धति को छोड़कर किसान जैविक खेती को अपनाकर आर्थिक रूप से मजबूत हो सकते हैं। उन्होंने किसानों से रासयनिक खादों के बजाए जैविक खाद के प्रयोग पर जोर दिया। रासयनिक खादों के दुष्परिणाम बताए। आयोजक आदित्य सिंह पटेल और अमन कुमार ने गोष्ठी में उपस्थित किसानों को जैविक खेती करने का संकल्प दिलाया। इस मौके पर संजय मिश्रा, धर्मेंद्र कुमार, संजय कुमार, जय प्रताप गुप्ता, राजकुमार साहू, दिनेश कुमार, देवराज, रामभरोसा मौर्य, रामलखन यादव, रामकिशोर सिंह, रामकिशोर निराला, सूर्यभान सिंह, बिंदा प्रसाद समेत सैकड़ों की संख्या में किसान मौजूद रहे।

प्रतियोगिताओं में प्रतिभागियों ने दिखाया हुनर
बांदा। संकुल स्तरीय मिनी बाल क्रीड़ा प्रतियोगिता में एक दर्जन से अधिक विद्यालयों के बच्चों ने हिस्सा लिया और अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। कमासिन विकास खंड के औदहा संकुल की मिनी बाल क्रीड़ा प्रतियोगिता रविवार को गोंड़ा गांव के पूर्व व प्राथमिक विद्यालय मैदान में आयोजित हुई। जिसमें चरका, टोडी पुरवा, मऊ, पांडे पुरवा सहित की एक दर्जन के विद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता का उद्घाटन ग्राम प्रधान प्रतिनिधि योगेंद्र सिंह ने किया। प्राथमिक स्तर पर बालक-बालिका वर्ग की 50, 100 व 200 मीटर दौड़ आयोजित की गई। प्राथमिक स्तर बालिका वर्ग में पूनम देवी अव्वल रहीं। जूनियर स्तर दौड़, लंबी कूद, गोला फेंक, चक्का फेंक में पूर्व माध्यमिक विद्यालय इंगुवा की कलावती और ललिता देवी प्रथम रहीं। जूनियर स्तर बालक वर्ग कबड्डी का फाइनल मैच गोंड़ा टीम ने जीता। पूर्व माध्यमिक विद्यालय इंगुवा टीम उप विजेता रही। इस मौके पर धर्मेंद्र सिंह, राजीव कुमार, आशुतोष पांडेय, विपिन तिवारी, ब्लाक व्यायाम शिक्षक आनंद सिंह गौतम, संकुल प्रभारी गुलाब राय, राम कुमार गुप्ता, देवनारायण समेत संकुल क्षेत्र के शिक्षक व शिक्षिकाएं उपस्थित रहे।

कर्जमाफी न हुई तो होगा आंदोलन
बांदा। बुंकियू राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल कुमार शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री योग आदित्यनाथ द्वारा किसानों का एक लाख रूपये तक का कर्ज माफ करने की घोषणा की गई थी। लेकिन कर्ज माफी से बहुत सारे किसान बुन्देलखण्ड के लापरवाह अधिकारियों की वजह से कर्ज माफी योजना से वंचित रह गये है। बुन्देलखण्ड किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर मांग की गई है कि बुन्देलखण्ड में कर्ज माफी से वंचित सभी किसानों का कर्ज माफ किया जाये। अन्यथा की स्थिति में बुन्देलखण्ड किसान यूनियन आन्दोलनात्मक रूख अपनाने के लिये बाध्य होगी।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

बांदा-प्रथम बार गर्भवती बनी महिलाएं कराएं पंजीकरण

प्रथम बार गर्भवती बनी महिलाएं कराएं पंजीकरण
– मिलेगी पांच हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि
– अब तक हजारों माताएं ले चुकी हैं लाभ
बांदा। पहली बार गर्भवती मां हुई महिला के बेहतर खान पान और पोषण के लिए सरकार पांच हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान कर रही है। इससे न सिर्फ महिलाएं बल्कि उनकी आने वाली पीढ़ी भी स्वस्थ और मजबूत बन सके। यदि पोषण की बात की जाए तो देश की ज्यादातर महिलाएं आज भी कुपोषित हैं और लगभग 50 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी है। इसलिए महिलाओं को शारीरिक रूप से स्वस्थ और मजबूत बनाना बेहद जरूरी है क्योंकि यदि महिला स्वस्थ रहेगी तो उसका बच्चा ही नहीं बल्कि आने वाली समस्त पीढ़ी स्वस्थ रहेगी। खासकर ग्रामीण इलाकों में, महिलाओं पर काम का बोझ अधिक है और साथ ही आर्थिक जरूरतों के कारण उन्हें गर्भावस्था के अंतिम समय तक काम करना पड़ता है। इतना ही नहीं, प्रसव के तुरंत बाद भी उन्हें काम में जुटना पड़ता है जिसके कारण वे गर्भावस्था और प्रसव उपरांत शरीर की पोषण सम्बन्धी जरूरतों पर ध्यान नहीं दे पाती। प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना एक मातृत्व लाभ योजना है जिसके अंतर्गत गर्भावस्था के दौरान काम न कर पाने से हुए आर्थिक नुकसान की क्षतिपूर्ति व शरीर की अतिरिक्त पोषण आवश्यकताओं के लिए महिला को पांच हजार रूपये का नकद आंशिक मुआवजा दिया जाता है।
जनपद के डिस्ट्रिक्ट कम्यूनिटी प्रोसेस मैनेजर (डीसीपीएम) ने बताया कि यह योजना 1 जनवरी 2017 को जनपद में शुरू हुई थी। तब से अब तक जनपद में लगभग हजारों लाभार्थियों को प्रोत्साहन राशि दी जा चुकी है। इसके लिए किसी भी महिला का गरीबी रेखा से नीचे होना या उनका प्रसव सरकारी संस्थान में ही होना जरूरी नही है। बस वह किसी सरकारी नौकरी में कार्यरत न हो और उनके पास आधार कार्ड और बैंक में खाता होना चाहिए, जो आधार कार्ड से लिंक हो। लाभार्थियों का पैसा सीधा उनके बैंक खाते में ही आता है। प्रोत्साहन राशि तीन किश्तों में लाभार्थी के बैंक खाते में जमा की जाती है। निशुल्क पंजीकरण कराने के बाद प्रथम किश्त 70-80 दिनों में लाभार्थी के खाते में पहुंच जाती है। आशा बहुओं द्वारा भी गृह भ्रमण कर प्रथम बार गर्भवती बनी महिलाओं को चिन्हित कर इस योजना में उनका पंजीकरण किया जा रहा है। अतः योजना का लाभ लेने के लिए करीबी आशा से भी संपर्क किया जा सकता है। सम्बंधित लाभार्थी से अपेक्षा की जाती है कि वह आधार से लिंक खाते की सही जानकारी दे जिससे प्रोत्साहन राशि समय से उनके खाते में जमा की जा सके।
इनसेट
क्या है योजना
बांदा। यह योजना पहली बार गर्भवती हुई वाली महिलाओं के लिए है। यह योजना गर्भवती महिलाओं के पोषण और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए बनाई गई है। इसके तहत पंजीकरण कराने के साथ ही गर्भवती को प्रथम किश्त के रूप में एक हजार रूपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने पर (गर्भावस्था के छह माह बाद) दूसरी किश्त के रूप में दो हजार रूपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर तीसरी किश्त के रूप में दो हजार रूपये दिए जाते हैं। ये सारे भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं, जिसका आधार से लिंक होना जरुरी है। इस योजना का लाभ सही-सही पात्र लोगों को मिल सके इसके लिए आनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था की गई है।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

बांदा-आखिर कब बनेगी अंडर ब्रिज की उखड़ी सड़क

आखिर कब बनेगी अंडर ब्रिज की उखड़ी सड़क
– ठेकेदार को है शायद किसी हादसे का इंतजार
– केवटरा क्रासिंग ब्रिज के नीचे से गुजरते हैं सैकड़ों वाहन
बांदा। कचहरी रेलवे क्रासिंग का आवागमन बंद हो जाने के बाद क्योटरा रेलवे क्रासिंग से ही अब दोपहिया और चार पहिया वाहनों का आवागमन होता है। अंडर ब्रिज का निर्माण कराए जाने के बाद ठेकेदार ने जिस तरह से मानकों को ताक में रखकर अंडर ब्रिज की सड़क का निर्माण कराया है, उससे मरम्मत के बाद एक पखवारे में ही सड़क उखड़ जाती है। एक बार फिर से सड़क मरम्मत के इंतजार में है। वरना किसी भी दिन कोई हादसा हो सकता है।
अंडर ब्रिज का निर्माण तो रेलवे ने कराया, लेकिन जिस ठेकेदार ने अंडर ब्रिज की सड़क का निर्माण कराया, उसने मानकों को ताक में रखकर काम किया है। ऐसे में सड़क महज एक पखवारे के अंदर ही उखड़ जा रही है। वर्तमान समय में सड़क उखड़ी होने के कारण लोगों को आवागमन में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। महेश्वरी देवी चैराहे की ओर से आने पर अंडर ब्रिज की सड़क में जब पहुंचते हैं तो तेज ढाल होने के साथ ही सड़क में गड्ढे हो गए हैं, इसके साथ ही लोहे की सरिया तक बाहर निकल आई हैं। लोहे की सरिया बाहर निकल जाने के कारण अगर कोई बाइक सवार सरियों में फंसकर गिर गया तो वह गंभीर रूप से जख्मी हो जाएगा। गंभीर चोट आने पर हालात और भी खराब हो सकते हैं। ताज्जुब की बात है कि शहर के अति व्यस्त मार्ग की सड़क की मरम्मत नहीं कराई जा रही है, जिससे किसी भी दिन लोग हादसे की चपेट में आ सकते हैं।
इनसेट
शाम ढलते ही कचहरी क्रासिंग में अराजकतत्वों का जमावड़ा
बांदा। शहर की कचहरी क्रासिंग पर आवगामन तो बंद हो चुका है, लेकिन शराब के ठेकों में शाम होते ही अराजकतत्वों का जमावड़ा लग जाता है। शराबी युवक देर रात तक शराब पीने के बाद हो-हल्ला करते नजर आते हैं। कई बार तो आपस में झगड़ा कर बैठते हैं, जिससे मुहल्ले का माहौल खराब होता है। इलाकाई लोगों ने पुलिस प्रशासन से शाम के समय पिकेट ड्यूटी लगाए जाने की मांग की है, ताकि अराजकतत्वों का जमावड़ा न लग सके।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

बांदा-पिता ने डांटा तो छात्रा ने गटका जहर, मौत

पिता ने डांटा तो छात्रा ने गटका जहर, मौत
– बिसंडा थाना क्षेत्र के लखमी थोक में हुई घटना
बांदा। पिता की डांट से नाराज छात्रा ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मौत की खबर मिलते ही घर वालों में कोहराम मच गया।
बिसंडा थाना क्षेत्र के लखमी थोक निवासी जागृति (17) पुत्री अरुण कुमार गुप्ता ने शनिवार की रात घर में जहर खा लिया। हालत बिगड़ने पर परिजनों को जानकारी हुई तो उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। हालत नाजुक बताकर डाक्टरों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सकों ने उसे कानपुर रेफर कर दिया। परिजन उसे कानपुर लेकर जा रहे थे तभी रास्ते में उसने दम तोड़ दिया। परिजन शव लेकर वापस जिला अस्पताल लौट आए। मृतका के पिता ने बताया कि जागृति कस्बा स्थित एक इंटर कालेज में 11वीं कक्षा की छात्रा थी। पढ़ाई न करने पर शनिवार को दोपहर उसने जागृति को डांट दिया। इसी बात से नाराज होकर जहर खाकर जान दे दी।

जामुन के पेड़ लटका मिला लापता युवक का शव
– तीन दिन पूर्व घर से लापता हो गया था युवक
– पिता ने हत्या कर शव फंदे पर लटकाने का लगाया आरोप
बांदा। घर से लापता हुए युवक का शव जंगल में जामुन के पेड़ पर रस्सी के सहारे लटका पाया गया। तीन दिनों से परिजन उसकी तलाश कर रहे थे। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। मृतका के पिता ने बेटे की हत्या किए जाने और शव को फांसी के फंदे पर लटकाकर आत्महत्या का रूप दिए जाने का आरोप लगाया है।
बदौसा थाना क्षेत्र के उतरवां गांव निवासी राहुल (18) पुत्र रामचंद्र तीन दिनों पूर्व घर से अचानक लापता हो गया। देर शाम उसके घर न लौटने पर परिजनों ने खोजबीन शुरू कर दी। काफी तलाश के बाद भी उसका कुछ पता नहीं चला। घटना की सूचना परिजनों ने थाना पुलिस को दी। शनिवार को देर शाम लकड़ियां काटकर घर लौट रही महिलाओं ने उसका शव जंगल में जामुन के पेड़ पर रस्सी के फंदे पर लटकते देखा। महिलाओं ने उसकी पहचान करते हुए घटना की जानकारी मृतक के परिजनों को दी। खबर मिलते ही घर वाले मौके पर पहुंच गए। पुलिस भी कुछ देर बाद घटनास्थल आ गई। परिजनों और ग्रामीणों से पूछताछ के बाद पुलिस ने पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक के पिता ने बताया कि राहुल ओरन स्थित जीआईसी इंटर कालेज में हाईस्कूल का छात्र था। आशंका जताई कि पुरानी रंजिश के चलते पड़ोसियों ने उसके पुत्र को अगवा करने के बाद गला घोंटकर हत्या कर दी। हत्या को आत्महत्या का रूप देने के लिए शव को फांसी के फंदे पर लटका दिया। उधर, बदौसा थानाध्यक्ष गिरेंद्र सिंह ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत हो रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हकीकत सामने आएगी।

आग से युवती झुलसी, कानपुर रेफर
बांदा। चिराग ऊपर आ गिरने से युवती झुलस गई। परिजनों ने आग बुझाकर उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया। हालत नाजुक बताकर चिकित्सकों ने उसे कानपुर रेफर कर दिया। सीमावर्ती मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के बलरामपुर गांव निवासी माया (35) पत्नी बाबूराम शनिवार को शाम रसोई घर में खाना बनाते समय पटरे में रखा चिराग ऊपर आ गिरने से झुलस गई। परिजनों ने काफी प्रयास के बाद आग बुझाई और गंभीर हालत में उसे जिला अस्पताल लेकर आए। प्राथमिक उपचार के बाद डाक्टरों ने हालत गंभीर बताकर उसे कानपुर रेफर कर दिया। बेटे जीतू तिवारी ने बताया कि उसकी मां का उपचार किया जा रहा है।

युवती समेत दो ने जहर खाया
बांदा। बिसंडा थाना क्षेत्र के कोर्रा खुर्द गांव निवासी सुनील (19) पुत्र मइयादीन ने शनिवार की रात घरेलू कलह से तंग होकर घर में जहर खाकर जान देने का प्रयास किया। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। एक अन्य घटना में बबेरू कोतवाली क्षेत्र के बगेहटा गांव निवासी सलमा (25) पत्नी अंसार खां ने शनिवार की रात पति से विवाद के बाद ससुराल में जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास किया। हालत बिगड़ने पर परिजनों को जानकारी हुई तो उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बबेरू में भर्ती कराया। हालत नाजुक बताकर चिकित्सकों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

नवजात शिशु का शव बरामद
बांदा। खंडहरनुमा मकान में पुलिस ने नवजात शिशु का शव बरामद किया। पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। 72 घंटे बाद नवजात शिशु के शव को पोस्टमार्टम कराया जाएगा। बिसंडा कस्बा स्थित खंडहरनुमा मकान में लोगों ने नवजात शिशु का शव पड़ा देखा तो घटना की जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]
Categories
बांदा बुंदेलखंड

ललितपुर-प्रकृति, पर्यावरण एवं प्राचीन धरोहर के संरक्षण से ही होगा मानवीय जाति का संरक्षण

प्रकृति, पर्यावरण एवं प्राचीन धरोहर के संरक्षण से ही होगा मानवीय जाति का संरक्षण
ललितपुर। उत्तर प्रदेश स्काउट गाइड जनपद ललितपुर के तत्वाधान में जनपद के इण्टर एवं महाविद्यालयीय छात्र-छात्राओं का एक दिवसीय पर्यटन हाइक जिला विद्यालय निरीक्षक रामशंकर के निर्देशन में राष्ट्रीय पर्यटन स्थल देवगढ़ में सम्पन्न हुई। हाइक रैली को जिला विद्यालय निरीक्षक रामशंकर एवं जिला कमिश्नर स्काउट डा.ओमप्रकाश शास्त्री, जिला सचिव सजन कुमार शर्मा, जिला संगठन कमिश्नर डा.राजीव निरंजन ने हरी झण्डी दिखाकर तुवन ग्राउण्ड से प्रस्थान कराया। देवगढ़ पहुंचकर छात्र-छात्राओं ने सबसे पूर्व विश्व प्रसिद्ध दशावतार मंदिर का दर्शन किया एवं संग्रहालय में मूर्तिकला का अवलोकन किया। तत्पश्चात सुप्रसिद्ध जैन तीर्थ में विराजमान तीर्थंकर भगवान शांतिनाथ जी के दर्शन एवं पूजन किया। इस अवसर पर देवगढ़ मैनेजिंग कमेटी के महामंत्री मुरारीलाल जैन ने सुप्रसिद्ध मंदिर में विराजमान भव्य प्रतिमाओं की प्राचीनता कलात्मकता, अध्यात्मिकता एवं स्थापत्य कला की दृष्टि से पंचातयन शैली पर बने हुए प्रसिद्ध शांतिनाथ जी के मंदिर के विषय में जानकारी प्रदान करते छात्र-छात्राओं के ज्ञान का वर्धन किया एवं प्राचीन मूर्तिकला की अभिनव व्याख्या प्रस्तुत की। जैन तीर्थ परिसर में आयोजित संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए नेमवि के संस्कृत विभागाध्यक्ष जिला स्काउट कमिश्नर डा.ओमप्रकाश शास्त्री ने कहा कि देवगढ़ हजारों वर्ष प्राचीन प्रसिद्ध मूर्तिकला का केंद्र रहा है। महाकवि कालिदास ने 2000 वर्ष पूर्व देवगढ़ की प्राचीनता का वर्णन अपने श्लोक सं-25 एवं 45 में करते हुए कहा कि पावन नदी वेतबा के किनारे देवगढ़ स्थित है। जो मूर्तिकला का विश्व प्रसिद्ध केंद्र है। उन्होंने कहा कि देवगढ़ के संस्कृत में अनेकार्थ है जिनमें देव-गढ़ अर्थात देवमूर्तियों का निर्माण केंद्र। उन्होंने कहा कि यहाँ बहने वाली वेतवा नदी प्रदूषण रहित और सबसे पवित्र है वहीं मूर्तिकला की दृष्टि से दशावतार मंदिर विश्व प्रसिद्ध है। जिला संगठन कमिश्नर स्काउट डा.राजीव निरंजन ने कहा कि जिला स्काउट गाइड के वार्षिक कलैण्डर में वर्ष में किसी प्रसिद्ध प्राचीन स्थल पर जाकर छात्र/छात्राओं को भारत की कला, पुरातत्व एवं प्राकृतिक वातावरण से परिचित कराया जाता है। इस वर्ष प्रसिद्ध पर्यटन एवं पुरातत्व सम्पदा से युक्त देवगढ़ की हाइक कराई गई है। हाइक में मौजूद जिला सचिव सजन कुमार शर्मा ने सभी छात्र-छात्राओं से कहा कि स्काउट प्रकृति प्रेमी है। प्रकृति एवं पर्यावरण का संरक्षण मूल उद्देश्य है। उन्होंने समस्त छात्र-छात्राओं से प्रकृति संरक्षण की अपील की एवं देवगढ़ मैनेजिंग कमेटी का हाइक में सहयोग करने हेतु आभार जताया।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]

Categories
बांदा बुंदेलखंड

बांदा-फांसी लगाकर किशोर ने जान दी

फांसी लगाकर किशोर ने जान दी
बांदा। दुपट्टे का फंदा बनाकर किशोर फांसी पर झूल गया। पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। उधर, परिजन आत्महत्या की स्पष्ट वजह नहीं बता सके।
तिंदवारी कस्बा निवासी अंकित (15) पुत्र मुन्नीलाल ने गुरुवार को शाम कमरे के अंदर बांस में दुपट्टे का फंदा बनाकर फांसी पर झूल गया। कुछ देर बाद मौके पर पहुंची मां सैकी ने अंकित का शव फांसी के फंदे पर लटकते देखा तो शोर मचाया। शोर सुनकर घर के अन्य लोग आ गए। आनन-फानन में फंदा काटकर शव को नीचे उतारा। मौके पर पहुंची पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव कोे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक के चचेरे भाई चंद्रभवन ने बताया कि घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। पिता मजदूरी करता है। आत्महत्या करने की वजह पता नहीं चल सकी है।

युवती ने आग लगाकर कर ली खुदकुशी
बांदा। युवती ने अपने ऊपर मिट्टी का तेल छिड़क कर खुद को जिंदा फूंक लिया। पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पति ने मृतका को मानसिक रूप से विक्षिप्त बताया है।
कमासिन थाना क्षेत्र के दलपा पुरवा रमावती (36) पत्नी बबली यादव ने गुरुवार को सुबह अपने ऊपर केरोसिन छिड़क कर खुद को आग लगा ली। मकान से धुआं निकलता देख पड़ोसियों को जानकारी हुई। मौके पर पहुंचे पड़ोसियों ने काफी मशक्कत के बाद आग बुझाई। घटना की जानकारी मिलने पर परिजन खेत से घर आए। ससुरालीजनों उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर आ रहे थे तभी उसकी मौत हो गई। मृतका के पति ने बताया कि घटना के वक्त घर के सभी लोग खेत गए थे। पिछले एक साल से उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं था। आगरा में उसका इलाज चल रहा था। सूना मौका पाकर अपने ऊपर मिट्टी का तेल छिड़क कर खुद को आग लगा ली।

सड़क हादसे में दो युवक जख्मी
बांदा। बिसंडा थाना क्षेत्र के निजामत पुरवा निवासी जुबैर (28) पुत्र हकीम गुरुवार को शाम बांदा से बाइक पर गांव लौट रहा था। तभी देहात कोतवाली क्षेत्र के नौमील गांव के नजदीक सामने से आ रहे वाहन ने बाइक को टक्कर मार दी। वह गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसी तरह अतर्रा थाना क्षेत्र के आऊ गांव निवासी कमलेश (22) पुत्र नत्थू गुरुवार को शाम बस स्टैंड से पैदल घर जा रहा था। तभी रास्ते में सामने से आ रहे तेज रफ्तार बाइक ने उसे टक्कर मार कर घायल कर दिया। दुर्घटना के बाद भाग रहे चालक को लोगों ने दबोच लिया।

करंट लगने से मजदूर झुलसा
बांदा। एचटी लाइन करंट लगने से मजदूर गंभीर रूप से झुलस गया। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। चित्रकूट जिले के कर्वी निवासी लक्ष्मी प्रसाद (20) पुत्र शिव प्रसाद शहर कोतवाली क्षेत्र के मवई बाईपास के पास खेत में तार बिछा रहा था। इसी दौरान लोहे का एंगिल ऊपर से गुजरी एचटी लाइन में छू जाने से करंट की चपेट में आकर झुलस गया।

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault norel=1 nobrand=1 showtitle=none desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=none goto_txt=”Visit our YouTube channel”]